krishn prem mein bhige logoin ka swagat hai...........

Thursday, March 18, 2010

मुझे ,भी जी लेने दो थोडा सा......
इस नश्वर को प्रवृति ने हाँका अब तक ,
आज से निवृति को हाँकने दो
                                      मुझे .....
परिचय होने दो स्वयं से ,
पा लेने दो जरा ,मुझे भी अपने आप को 
                                   मुझे .....
उफन  न जाये कहीं ,मेरे हृदय कि व्येग -धारा ,
और शीतल न पड़ जाये मेरे मन का धरातल 
                                मुझे ......
मेरी सोच को विस्तृत होने दो ,व्योम कि तरह ,
निर्भय बन जरा सा उड़ लूँ पंछी कि तरह
                               मुझे.....

                         

5 comments:

  1. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  3. अति सुंदर भाव पूर्ण काव्य
    परिचय होने दो स्वयं से ,
    पा लेने दो जरा ,मुझे भी अपने आप को
    शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति आपकी...

    सस्नेह
    गीता

    ReplyDelete
  5. sunder shabdon mein ki hai abhivyakti

    ReplyDelete